विवरण

यह रोग नष्ट न कर दे पत्तेदार सब्जियों वाली फसल

लेखक : Soumya Priyam

पत्ती वाली सब्जियों में पत्ती एवं तना गलन रोग का प्रकोप अधिक होता है। इस रोग के होने पर बहुत कम समय में पूरी फसल नष्ट हो सकती है। पत्ती एवं तना गलन रोग से पालक, मेथी, धनिया, पुदीना, हरी प्याज, बथुआ, सरसों, आदि पत्तेदार सब्जियां अधिक प्रभावित होती हैं। आइए पत्तेदार सब्जियों में होने वाले इस रोग पर विस्तार से जानकारी प्राप्त करें।

पत्ती एवं तना गलन रोग के लक्षण

  • इस रोग से प्रभावित पौधों के तने भूरे रंग के होने लगते हैं।

  • पौधों की शाखाएं एवं पत्तियां सूखने लगती हैं।

  • पौधों का विकास रुक जाता है।

  • रोग बढ़ने पर तना सड़ने के कारण पौधे नष्ट हो जाते हैं।

पत्ती एवं तना गलन रोग पर नियंत्रण के तरीके

  • पौधों को इस रोग से बचाने के लिए बुवाई से पहले प्रति किलोग्राम बीज को 2 ग्राम थीरम से उपचारित करें।

  • इसके बाद प्रति किलोग्राम बीज को 4 ग्राम ट्राइकोडर्मा विरिडी से उपचारित करें।

  • यदि खेत में हर वर्ष तना गलन रोग होता है तो बुवाई के 45 से 50 दिनों बाद 0.1 प्रतिशत बाविस्टिन के घोल का छिड़काव करें।

यह भी पढ़ें :

हमें उम्मीद है यह जानकारी आपके लिए महत्वपूर्ण साबित होगी। यदि आपको इस पोस्ट में दी गई जानकारी पसंद आई है तो इस पोस्ट को लाइक करें एवं इसे अन्य किसानों के साथ साझा भी करें। जिससे अधिक से अधिक किसान मित्र इस जानकारी का लाभ उठाते हुए बेहतर फसल प्राप्त कर सकें। इससे जुड़े अपने सवाल हमसे कमेंट के माध्यम से पूछें।

3 लाइक्स

23 December 2021

शेयर करें

कोई टिप्पणी नहीं है

फसल संबंधित कोई भी सवाल पूछें

अधिक जानकारी के लिए हमारे कस्टमर केयर को कॉल करें
कृषि सलाह प्राप्त करें