विवरण

टमाटर:पत्ती सिकुड़न रोग

लेखक : Soumya Priyam

पतियों पर पर्णहरित का अभाव हो जाता है और पतियाँ कुंचित हो जाती है. यह एक वाइरसजनित रोग है जो की सफ़ेद मक्खी के द्वारा एक पौध से दुसरे पौध में फैलता है. इसके नियंत्रण के लिए सल्फर, 25ग्रा. प्रति 15 लीटर पानी में घोलकर छिड़काव करें. ठीक 4-5 दिनों बाद प्रति टंकी 40 मिली वायरोलिन + 5 ग्रा. ग्रीनतारा या  15 मिली टाटामिडा + 10 ग्रा. मानिक या 10 मिली कोन्फ़िडोर + 10 ग्रा. शार्प को घोलकर छिड़काव करें. छिड़काव को 7-8 दिनों बाद दोहराएँ.

5 लाइक्स

10 टिप्पणियाँ

2 September 2020

शेयर करें

कोई टिप्पणी नहीं है

फसल संबंधित कोई भी सवाल पूछें

अधिक जानकारी के लिए हमारे कस्टमर केयर को कॉल करें
कृषि सलाह प्राप्त करें