विवरण

टमाटर धब्बेदार उकठा विषाणु रोग

लेखक : Dr. Pramod Murari

धब्बेदार उकठा विषाणु रोग यानी स्पॉटेड विल्ट वायरस टमाटर के अलावा मिर्च, शिमला मिर्च, आलू, तंबाकू, खरबूज, आदि फसलों को भी क्षति पहुंचाता है। यह रोग थ्रिप्स के द्वारा संचालित होता है। इस घातक रोग से टमाटर के पौधों को बचाने के लिए रोग का लक्षण एवं बचाव के उपाय यहां से देखें।

रोग का लक्षण

  • पत्तियों एवं पके फलों पर गहरे भूरे रंग के धब्बे उभरने लगते हैं।

  • कच्चे फलों पर यह धब्बे हल्के हरे रंग के होते हैं।

  • रोग बढ़ने के साथ पत्तियों एवं फलों पर उभरे धब्बों के आकार में भी वृद्धि होती है।

  • रोग बढ़ने पर पौधों के विकास में बाधा आती है।

  • यह रोग पौधों के ऊपरी भाग से नीचे की तरफ फैलता है।

बचाव के उपाय

  • जैविक विधि से नियंत्रण के लिए नीम के तेल का छिड़काव करें।

  • इस रोग से निजात पाने के लिए 15 लीटर पानी में 40 मिलीलीटर वैरोनिल मिला कर छिड़काव करें।

  • इसके अलावा प्रति लीटर पानी में 3 मिलीलीटर इमिडाक्लोप्रिड मिला कर भी छिड़काव कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें :

हमें उम्मीद है इस पोस्ट में बताई गई जानकारी आपके लिए महत्वपूर्ण साबित होगी। यदि आपको यह जानकारी पसंद आई है तो इस पोस्ट को लाइक करें एवं इसे अन्य किसानों के साथ साझा भी करें। टमाटर की खेती से जुड़े अपने सवाल हमसे कमेंट के माध्यम से पूछें।

32 लाइक्स

7 टिप्पणियाँ

12 November 2020

शेयर करें

कोई टिप्पणी नहीं है

फसल संबंधित कोई भी सवाल पूछें

अधिक जानकारी के लिए हमारे कस्टमर केयर को कॉल करें
कृषि सलाह प्राप्त करें