विवरण

राइस ट्रांसप्लांटर से धान की रोपाई में होगी आसानी, जानें इसकी विशेषताएं

लेखक : Soumya Priyam

हमारे देश में खरीफ मौसम में सबसे ज्यादा धान की खेती की जाती है। खेत तैयार करने से ले कर फसल की कटाई तक किसानों को कई तरह के कृषि कार्य करने होते हैं। इनमें पौधों की रोपाई भी शामिल है। धान के पौधों की रोपाई में समय एवं मजदूरों पर होने वाली लागत को कम करने के लिए किसान राइस ट्रांसप्लांटर का प्रयोग कर सकते हैं। आइए राइस ट्रांसप्लांटर कृषि यंत्र पर विस्तार से जानकारी प्राप्त करें।

क्या है राइस ट्रांसप्लांटर?

  • यह एक आधुनिक कृषि यंत्र है जिसके द्वारा धान के पौधों की रोपाई की जाती है।

  • इसकी मदद से एक बार में 4 से 8 पक्तियों में पौधों की रोपाई की जा सकती है।

राइस ट्रांसप्लांटर के प्रकार

  • बाजार में कई तरह के राइस ट्रांसप्लांटर उपलब्ध हैं। जिनमें जापानी पैडी प्लांटर, सेल्फ प्रोपेल्ड मशीन, महिंद्रा एंड महिंद्रा पैडी प्लांटर एवं आरसी एग्रो पैडी प्लांटर शामिल है।

राइस ट्रांसप्लांटर की विशेषताएं

  • केवल 2 से 3 घंटों में ही प्रति एकड़ खेत में पौधों की रोपाई की जा सकती है।

  • समय की बचत होती है।

  • रोपाई के लिए मजदूरों पर होने वाले खर्च में कमी आती है।

  • सभी कतार एवं पौधों के बीच एक समान दूरी होती है।

  • पैदावार में 10 से 12 प्रतिशत तक बढ़ोतरी होती है।

  • इस कृषि यंत्र के द्वारा खरपतवारों पर नियंत्रण करने में भी सहायता होती है।

यह भी पढ़ें :

हमें उम्मीद है यह जानकारी आपके लिए महत्वपूर्ण साबित होगी। यदि आपको इस पोस्ट में दी गई जानकारी पसंद आई है तो इस पोस्ट को लाइक करें एवं इसे अन्य किसानों के साथ साझा भी करें। जिससे अधिक से अधिक किसान मित्र इस जानकारी का लाभ उठाते हुए सरसों की फसल को माहू कीट से बचा सकें। इससे जुड़े अपने सवाल हमसे कमेंट के माध्यम से पूछें। पशु पालन एवं कृषि संबंधी अन्य रोचक एवं ज्ञानवर्धक जानकारियों के लिए जुड़े रहें देहात से।

5 लाइक्स

2 टिप्पणियाँ

18 February 2022

शेयर करें

कोई टिप्पणी नहीं है

फसल संबंधित कोई भी सवाल पूछें

अधिक जानकारी के लिए हमारे कस्टमर केयर को कॉल करें
कृषि सलाह प्राप्त करें