विवरण

फॉल आर्मी वर्म : मकके की फसल का दुश्मन

लेखक : Surendra Kumar Chaudhari

फॉल आर्मी वर्म को मक्के की फसल का सबसे बड़ा दुश्मन माना जा सकता है। टिड्डियों की तरह यह कीट भी मक्के की पूरी फसल को नष्ट कर सकता है। भारत के कर्नाटक राज्य में इस कीट को सबसे पहले वर्ष 2018 में देखा गया था। इसके बाद इस कीट ने बेंगलुरू, हसन, आंध्र प्रदेश, गुजरात, उत्तर प्रदेश, बिहार और मध्य प्रदेश में भी तबाही मचाई। समय रहते अगर इस कीट पर नियंत्रण नहीं किया गया तो इसके भयंकर दुष्परिणाम देखने को मिल सकता है। अगर आप इस कीट से होने वाले नुकसान एवं बचाव के उपाय नहीं जानते हैं तो इस पोस्ट को ध्यान से पढ़ें।

क्या है फॉल आर्मी वर्म?

तम्बाकू इल्ली के परिवार का यह बहुभक्षी कीट है। मादा कीट अपने जीवन काल में 10 बार तक अंडे दे सकती है। मादा कीट एक बार में 50 से 200 अंडे देती है। एक मादा कीट अपने जीवन काल में 1700 से 2000 अंडे देती है। इससे इस कीट के तेजी से बढ़ने का अंदाजा लगाया जा सकता है। सभी अंडों से लार्वा निकलने में 3 से 4 दिनों का समय लगता है। इसके बाद करीब 14 से 22 दिनों में लार्वा प्यूपा में परिवर्तित हो जाते हैं। प्यूपा को व्यस्क होने में करीब 7 से 13 दिनों का समय लगता है। यह कीट प्रति दिन 100 किलोमीटर तक की यात्रा कर सकता है।

होने वाले नुकसान

  • यह पौधों के लगभग सभी भाग को खा कर फसल को भारी नुकसान पहुंचाते हैं।

  • लार्वा पत्तियों को खुरचकर खाते हैं। जिससे पत्तियों पर सफेद रंग की धारियां बनने लगती हैं।

  • बड़े होने के साथ यह कीट पत्तियों के ऊपरी हिस्से, मक्के के दाने एवं उसे ढकने वाली पत्तियों को भी खा कर फसल को नष्ट करते हैं।

बचाव के उपाय

  • कीट को फैलने से रोकने के लिए अंडों के समूह को नष्ट कर दें।

  • एकड़ जमीन में 100 किलोग्राम नीम की खली मिलाएं। ऐसा करने से प्यूपा को व्यस्क होने से भी रोका जा सकता है।

  • प्रति एकड़ जमीन में 40 ग्राम एमामेक्टिन बेंजोएट 5 एस.जी का छिड़काव करने से भी इस कीट पर नियंत्रण किया जा सकता है।

  • इसके अलावा प्रति एकड़ खेत में 100 ग्राम फ्लूबेंडामाइड 20 डबल्यू.जी या 70 मिलीलीटर स्पिनोसेड 45 ई.सी का भी छिड़काव कर सकते हैं।

  • प्रति लीटर पानी में 4 मिलीलीटर स्पिनेटोरम (डेलीगेट) 11.7 एस.सी मिला कर छिड़काव करें।

  • प्रति एकड़ खेत में 4 से 6 फेरोमोन ट्रेप लगाने से भी कुछ हद तक इसको नियंत्रित किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें :

  • मक्के की फसल के लिए बीज उपचारित करने की विधि एवं इसके फायदे जानने के लिए यहां क्लिक करें।

हमें उम्मीद है इस पोस्ट में बताई गई दवाओं एवं अन्य तरीकों को अपना कर आप मक्के की फसल को फॉल आर्मी वर्म से बचा सकते हैं। अगर आपको यह जानकारी आवश्यक लगी है तो इस पोस्ट को लाइक करें। साथ ही इस पोस्ट को अधिक से अधिक किसान मित्रों के साथ साझा करें जिससे सभी किसान अपनी फसल को इस कीट से बचा सकें। मक्के की खेती से जुड़े अपने सवाल हमसे कमेंट के माध्यम से पूछें।

45 लाइक्स

6 टिप्पणियाँ

21 November 2020

शेयर करें

कोई टिप्पणी नहीं है

फसल संबंधित कोई भी सवाल पूछें

अधिक जानकारी के लिए हमारे कस्टमर केयर को कॉल करें
कृषि सलाह प्राप्त करें