पोस्ट विवरण

लीची : वृक्षों को सूखने एवं जड़ों को सड़ने से बचाने से सटीक उपाय

सुने

लीची के वृक्षों के सूखने एवं जड़ों के सड़ने की समस्या छोटे पौधों यानी 5 वर्ष से कम आयु के पौधों में अधिक होती है। संक्रमित वृक्षों को बचाने का अभी तक कोई सटीक उपाय या दवा ईजाद नहीं की गई है। हालांकि कई बार शुरूआती लक्षण नजर आने पर कुछ दवाओं का छिड़काव करने पर पौधों को पूरी तरह सूखने से बचाया जा सकता है। अगर आप भी कर रहे हैं लीची की बागवानी तो पौधों के सूखने एवं जड़ों से सड़ने के कुछ शुरूआती लक्षण एवं बचाव की जानकारी होना आवश्यक है। आइए इस विषय में विस्तार से जानकारी प्राप्त करें।

लीची के वृक्षों के सूखने एवं जड़ों के सड़ने के कुछ प्रमुख लक्षण

  • संक्रमित पौधों की पत्तियां पीले रंग की हो जाती हैं।

  • धीरे-धीरे यानी करीब 1 सप्ताह के अंदर पत्तियां मुरझाने लगती हैं।

  • 4 से 5 दिनों के अंदर पौधे सूख जाते हैं।

  • वहीं कुछ क्षेत्रों में जड़ों के सड़ने के कारण पौधे सूखने लगते हैं।

  • जड़ें अंदर से लाल रंग की हो जाती हैं।

लीची के वृक्षों के सूखने एवं जड़ों के सड़ने से बचाने के सटीक उपाय

  • इस रोग से बचने के लिए जलजमाव वाले क्षेत्रों में लीची की बागवानी करने से बचें।

  • संक्रमित डालियों की कटाई करें।

  • जैविक नियंत्रण : अरंडी या नीम की खली के साथ ट्राइकोडर्मा या स्यूडोमोनास फ्लोरेसेंस को पौधों की जड़ों के आस-पास की मिट्टी में मिलाएं।

  • रासायनिक नियंत्रण : शुरूआती लक्षण नजर आने पर 15 लीटर पानी में 15 से 20 मिलीलीटर कंटाफ प्लस और 30 से 35 ग्राम साफ मिला कर ड्रेचिंग करें।

यह भी पढ़े :

हमें उम्मीद है यह जानकारी आपके लिए महत्वपूर्ण साबित होगी। यदि आपको इस पोस्ट में दी गई जानकारी पसंद आई है तो इस पोस्ट को लाइक करें एवं इसे अन्य किसानों के साथ साझा भी करें। जिससे अधिक से अधिक किसान मित्र इस जानकारी का लाभ उठाते हुए लीची के वृक्षों को सूखने एवं जड़ों को सड़ने से बचा सकें। इससे जुड़े अपने सवाल हमसे कमेंट के माध्यम से पूछें।

Pramod

Dehaat Expert

5 लाइक्स

11 November 2021

शेयर करें
banner
फसल चिकित्सक से मुफ़्त सलाह पाएँ

फसल चिकित्सक से मुफ़्त सलाह पाएँ