विवरण

लहसुन : आर्द्र गलन रोग पर नियंत्रण के उपाय

सुने

लेखक : SomnathGharami

लहसुन का प्रयोग रसोई में मसालों तक ही सीमित नहीं है। आयुर्वेद में भी इसे एक विशेष स्थान प्राप्त है। कई औषधीय गुणों से भरपूर लहसुन के छोटे पौधे आर्द्र गलन रोग के कारण नष्ट हो जाते हैं। इस घातक रोग के लक्षण एवं पौधों को इस रोग से बचाने के उपाय यहां से देखें।

रोग का कारण

  • यह रोग मौसम की अनुकूलता, अधिक ठंड एवं अधिक नमी के कारण होता है।

रोग का लक्षण

  • रोग से ग्रस्त पौधों की जड़े गलने लगती हैं।

  • रोग बढ़ने पर पौधे नष्ट हो जाते हैं।

  • आमतौर पर यह रोग नर्सरी में या छोटे पौधों में होते हैं।

बचाव के उपाय

  • इस रोग से बचने के लिए नर्सरी में एवं मुख्य खेत में जल जमाव ना होने दें।

  • जल निकासी की उचित व्यवस्था करें।

  • बुवाई से करीब 24 घंटे पहले प्रति किलोग्राम बीज को 2.5 ग्राम कार्बेंडाजिम या थीरम से उपचारित करें।

  • इसके बाद प्रति किलोग्राम बीज को 2 ग्राम ट्राइकोडरमा विरिडी से भी उपचारित करें।

यह भी पढ़ें :

इस पोस्ट में बताई गई बातों पर अमल करके लहसुन के पौधों को आर्द्र गलन रोग से बचा सकते हैं। यदि आपको यह जानकारी पसंद आई है तो इस पोस्ट को लाइक करें एवं इसे अन्य किसान मित्रों के साथ साझा भी करें। लहसुन की खेती से जुड़े अपने सवाल हमसे कमेंट के माध्यम से पूछें।

35 लाइक्स

11 टिप्पणियाँ

19 November 2020

शेयर करें

कोई टिप्पणी नहीं है

फसल संबंधित कोई भी सवाल पूछें

सवाल पूछें
अधिक जानकारी के लिए हमारे कस्टमर केयर को कॉल करें
कृषि सलाह प्राप्त करें

Ask Help