विवरण

गेहूं में नाइट्रोजन की कमी

लेखक : Soumya Priyam

गेहूं की फसल में नाइट्रोजन की कमी के लक्षण बुवाई के 35 दिनों के अंदर नजर आने लगते हैं। पौधों में नाइट्रोजन की कमी होने पर पौधों की निचली पीली होने लगती हैं। यह पीलापन पत्तियों में नोक की तरफ से उभरते हुए पूरी पत्तियों को पीला कर देते हैं। नाइट्रोजन की कमी बढ़ने पर पत्तियां मध्य में पीली एवं किनारों से भूरी झुलसी हुई सी नजर आने लगती हैं। गेहूं की फसल में यह लक्षण नजर आने पर प्रति लीटर पानी में 5 ग्राम 19:19:19 या 20:20:20 उर्वरक मिला कर प्रयोग करें।

अगर आपको यह जानकारी रोचक एवं महत्वपूर्ण लगी है तो इस पोस्ट को लाइक एवं अन्य किसान मित्रों के साथ साझा करना न भूलें। इससे जुड़े अपने सवाल हमसे कमेंट के माध्यम से पूछें। आप चाहें तो देहात के टोल फ्री नंबर 1800-1036-110 पर सम्पर्क कर के भी गेहूं की खेती से जुड़ी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। कृषि संबंधी अन्य ज्ञानवर्धक जानकारियों के लिए जुड़े रहें देहात से।

12 लाइक्स

3 टिप्पणियाँ

23 November 2022

शेयर करें

कोई टिप्पणी नहीं है

फसल संबंधित कोई भी सवाल पूछें

अधिक जानकारी के लिए हमारे कस्टमर केयर को कॉल करें
कृषि सलाह प्राप्त करें