विवरण

एक्वापोनिक्स खेती के फायदे एवं नुकसान

लेखक : Lohit Baisla

आने वाले कुछ वर्षों में बढ़ती जनसंख्या से कृषि योग्य भूमि की कमी और घटता जल स्तर के कारण सिंचाई के लिए पानी की कमी होना कृषि क्षेत्र में एक बड़ी समस्या बन कर उभर सकती है। ऐसे में एक्वापोनिक्स कृषि तकनीक एक बड़ी राहत बन सकती है। एक्वापोनिक्स खेती के माध्यम से कम जगह में मछली पालन के साथ सब्जियों की भी खेती की जा सकती है। आइए इस पोस्ट के माध्यम से जानते हैं एक्वापोनिक्स खेती के फायदे एवं नुकसान।

एक्वापोनिक्स खेती के फायदे

  • मत्स्य पालन एवं सब्जियों की खेती एक साथ करके अधिक मुनाफा कमा सकते हैं।

  • मछलियों का पानी पौधों में प्रयोग किया जाता है जिससे पानी की बचत होती है।

  • पारंपरिक खेती की तुलना में खाद एवं उर्वरकों की आवश्यकता कम होती है।

  • पैदावार में 20 से 25 प्रतिशत तक बढ़ोतरी होती है।

  • उच्च गुणवत्ता की फसल प्राप्त होती है।

  • कृषि के लिए अनुपयोगी भूमि में भी कृषि की जा सकती है। लवणीय भूमि, मरुस्थल, रेतीली भूमि, आदि में भी आसानी से एक्वापोनिक्स खेती की जा सकती है।

एक्वापोनिक्स खेती के नुकसान

  • एक्वापोनिक्स तकनीक की शुरुआत में लागत अधिक होती है।

  • मछली पालन, बैक्टेरिया और पौधों की जानकारी नहीं होने से नुकसान का सामना करना पड़ सकता है।

  • छोटी दुर्घटना होने पर भी पूरा तंत्र खराब हो सकता है।

  • सर्किट, मोटर आदि को चलाने के लिए बिजली की आवश्यकता होती है।

यह भी पढ़ें :

हमें उम्मीद है यह जानकारी आपको पसंद आई होगी। यदि आपको यह जानकारी महत्वपूर्ण लगी है तो इस पोस्ट को लाइक करें एवं इसे अन्य मित्रों के साथ साझा भी करें। जिससे अन्य किसानों तक भी यह जानकारी पहुंच सके। इससे जुड़े अपने सवाल हमसे कमेंट के माध्यम से पूछें।

34 लाइक्स

1 टिप्पणी करें

8 February 2021

शेयर करें

कोई टिप्पणी नहीं है

फसल संबंधित कोई भी सवाल पूछें

अधिक जानकारी के लिए हमारे कस्टमर केयर को कॉल करें
कृषि सलाह प्राप्त करें