विवरण

बैंगन का फल छेदक कीट

लेखक : Lohit Baisla

बैंगन की फसल में फल छेदक कीट का प्रकोप सर्वाधिक देखा जाता है। इसके प्रकोप से फल सड़ने की समस्या भी उत्पन्न हो जाती है। ऐसे फलों का उपयोग नहीं किया जा सकता है और फसल की पैदावार पर इसका विपरीत असर होता है। इस कीट के प्रकोप से बचने के लिए इसके लक्षण और बचाव के उपाय की जानकारी होना आवश्यक है।

कीट का लक्षण

  • इस तरह के कीट पहले तने और कोपलों में छेद करते हैं।

  • धीरे-धीरे यह कीट फलों में छेद करते हैं और फलों को अंदर से खाते हैं।

  • प्रकोप अधिक बढ़ने पर पौधों एवं फलों का विकास रुक जाता है।

  • साथ ही फल छोटे और टेढ़े-मेढ़े हो जाते हैं।

बचाव के उपाय

  • ग्रसित फलों को प्रति सप्ताह तोड़ कर खेत से बाहर निकाल कर नष्ट कर दें।

  • हो सके तो कीटों को इकट्ठा कर के नष्ट कर दें।

  • नर्सरी लगाने के 1 महीने बाद आप प्रति एकड़ जमीन में 300 मिलीलीटर ट्राइजोफास 40 ई. सी को 200 से 250 लीटर पानी में मिला कर छिड़काव कर सकते हैं।

  • इसके अलावा प्रति एकड़ जमीन में 200 से 250 लीटर पानी में 600 मिलीलीटर क्वीनालफास 25 ई.सी मिला कर छिड़काव करें।

  • फूल निकलने के समय कोराजेन 18.5 प्रतिशत एस.सी (Chlorantraniliprole) 7-8 मिलीलीटर प्रति टंकी में मिला कर छिड़काव करें।

  • यदि पौधों में फल लग गए हैं तो फलों की तुड़ाई के बाद ही कीटनाशक का छिड़काव करना चाहिए।

  • कीटनाशक के प्रयोग के बाद कुछ दिनों तक फलों की तुड़ाई न करें।

अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आई है तो इस पोस्ट को लाइक करें और अपने सवाल हमसे कमेंट के माध्यम से पूछें।

109 लाइक्स

90 टिप्पणियाँ

2 September 2020

शेयर करें

कोई टिप्पणी नहीं है

फसल संबंधित कोई भी सवाल पूछें

अधिक जानकारी के लिए हमारे कस्टमर केयर को कॉल करें
कृषि सलाह प्राप्त करें