विवरण

बैंगन : भरपूर पुष्पन और फलन के कार्य

लेखक : Soumya Priyam

हमारे देश में आलू के बाद सबसे ज्यादा खपत वाली सब्जी बैंगन है। 2 से 3 फिट के पौधों में कई बैंगन के फल लगते हैं। विभिन्न किस्मों के अनुसार इनका रंग एवं आकार भी अलग - अलग होता है। सब्जियों की खेती करने वाले किसानों के बीच बैंगन बहुत लोकप्रिय है। इसकी खेती करते समय खासकर पौधों में फूल एवं फल निकलते समय कुछ बातों का ध्यान भी रखना होता है। इस पोस्ट में हम कुछ महत्वपूर्ण उपाय बता रहें हैं जो बैंगन में फलों और फूलों की संख्या में वृद्धि के लिए आवश्यक है।

  • इस समय खेत को विभिन्न खरपतवारों से मुक्त रखना आवश्यक है। खरपतवारों की अधिकता से पौधों को आवश्यक पोषक तत्व नहीं मिलते हैं। जिससे पौधों में फूलों और फलों की संख्या में कमी आती है।

  • खेत में निराई-गुड़ाई करते समय खेत में यूरिया का छिड़काव करें।

  • खेत में जल जमाव एवं नमी की कमी न होने दें। इन स्थितियों में पौधों के सड़ने या सूखने का खतरा बढ़ जाता है।

  • फूलों को झड़ने से रोकने एवं फूलों और फलों की संख्या में वृद्धि के लिए 15 लीटर पानी में 2 मिलीलीटर देहात फ्रूट प्लस मिला कर छिड़काव करें।

  • इसके साथ ही प्रति 15 लीटर पानी में 10 ग्राम देहात पंच मिला कर छिड़काव करें। इससे पौधों में पोषक तत्वों की कमी पूरी होती है और रसायनों के प्रयोग की आवश्यकता भी नहीं होती। दवा के छिड़काव के 48 घंटों के अंदर इसका असर देखा जा सकता है।

यह भी पढ़ें :

  • बैंगन के पौधों को फल सड़न रोग से बचाने के उपाय की जानकारी प्राप्त करने के लिए यहां क्लिक करें।

हमें उम्मीद है इस पोस्ट में बताई गई बातों पर अमल कर के एवं दवाओं का प्रयोग कर के आप बैंगन की बेहतरीन फसल प्राप्त कर सकेंगे। अगर आपको यह जानकारी पसंद आई है तो इस पोस्ट को लाइक करें। बैंगन की खेती से जुड़े अपने सवाल बेझिझक हमसे कमेंट के द्वारा पूछें।

25 लाइक्स

12 टिप्पणियाँ

30 October 2020

शेयर करें

कोई टिप्पणी नहीं है

फसल संबंधित कोई भी सवाल पूछें

अधिक जानकारी के लिए हमारे कस्टमर केयर को कॉल करें
कृषि सलाह प्राप्त करें