विवरण

अधिक मुनाफा के लिए अप्रैल महीने करें इन सब्जियों की खेती

लेखक : Lohit Baisla

अप्रैल महीने में गेहूं की कटाई शुरू हो जाती है। गेहूं की कटाई के बाद गर्मी के मौसम में खेती की जाने वाली फसलों की खेती की जा सकती है। अगर आप भी अप्रैल महीने में करना चाहते हैं खेती तो इस पोस्ट को ध्यान से पढ़ें। यहां से आप अप्रैल महीने करें खेती की जाने वाली कुछ फसलों की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

  • भिंडी : गर्मी के मौसम में भिंडी की मांग अधिक होती है। अप्रैल महीने में इसकी खेती किसानों के लिए फायदेमंद साबित हो सकती है। भिंडी की अधिक पैदावार के लिए जुताई के समय प्रति एकड़ खेत में 16 किलोग्राम नाइट्रोजन, 24 किलोग्राम फास्फोरस एवं 24 किलोग्राम पोटाश मिलाएं। इसके बाद 16 किलोग्राम नाइट्रोजन को 2  भागों में बांट कर खड़ी फसल में छिड़काव करें। मिट्टी में नमी की कमी न होने दें।

  • हल्दी : विश्व में भारत हल्दी का सबसे बड़ा उत्पादक देश है। गुजरात, महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल, असम, मेघालय, आंध्र प्रदेश, केरल, तमिलनाडु एवं कर्नाटक इसका मुख्य उत्पादक राज्य है। हल्दी की अच्छी पैदावार के लिए इसकी खेती बलुई दोमट या मटियार दोमट मिट्टी में करें।

  • लौकी : प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट और विटामिन से प्रचुर लौकी की खेती से किसानों को अच्छा मुनाफा होता है। इसकी खेती के लिए गर्म एवं आर्द्र जलवायु की आवश्यकता होती है। इसलिए इसकी बुवाई के लिए अप्रैल महीना उपयुक्त है।

  • लोबिया : अप्रैल महीने में गेहूं की कटाई के बाद इसकी खेती की जा सकती है। बुवाई से पहले प्रति किलोग्राम बीज को 2 ग्राम थीरम या 1 ग्राम कार्बेन्डाजिम से उपचारित करें। खेत में जल निकासी की अच्छी व्यवस्था करें। जल जमाव होने पर बीज के सड़ने की संभावना अधिक हो जाती है।

इन फसलों के अलावा अप्रैल महीने में कद्दू, साठी मक्का, बसंतकालीन मूंगफली, मूंग, उड़द, चारे वाली फसलों की भी खेती की जाती है।

हमें उम्मीद है यह जानकारी आपके लिए महत्वपूर्ण साबित होगी। यदि आपको यह जानकारी पसंद आई है तो हमारे पोस्ट को लाइक करें एवं इसे अन्य किसानों के साथ साझा भी करें। जिससे अन्य किसान मित्र भी इन सब्जियों की खेती कर के अच्छा मुनाफा प्राप्त कर सकें। इससे जुड़े अपने सवाल हमसे कमेंट के माध्यम से पूछें।

27 लाइक्स

1 टिप्पणी करें

2 April 2021

शेयर करें

कोई टिप्पणी नहीं है

फसल संबंधित कोई भी सवाल पूछें

अधिक जानकारी के लिए हमारे कस्टमर केयर को कॉल करें
कृषि सलाह प्राप्त करें