Beej se bajar tak
 खोजें
 / 
लौकी: रस-चूसक कीट

लौकी: रस-चूसक कीट

लेखक - Dr. Pramod Murari | 16/4/2018

रस-चूसक कीट: लौकी के फसल में थ्रिप्स, एफिड इत्यादि लगने के वजह से शिशु फल पीले होकर गिर जाते है, जिससे किसान को काफी नुकसान उठाना पड़ता है.

उपचार: इससे बचने के लिए कालडॉन 50 एस.पी., 25 ग्रा. और एक्ट्रा 10 ग्रा. प्रति 15 लीटर में मिलाकर छिड़काव करें तथा 2-3 दिनों बाद 2 ग्रा. साफ और 1 ग्रा. पंच प्रति लीटर के दर छिड़काव करें


0 लाइक और 0 कमेंट

कृषि विशेषज्ञ से मुफ़्त सलाह के लिए हमें कॉल करें

farmer-advisory

COPYRIGHT © DeHaat 2022

Privacy Policy

Terms & Condition

Contact Us

Know Your Soil

Soil Testing & Health Card

Health & Growth

Yield Forecast

Farm Intelligence

AI, ML & Analytics

Solution For Farmers

Agri solutions

Agri Input

Seed, Nutrition, Protection

Advisory

Helpline and Support

Agri Financing

Credit & Insurance

Solution For Micro-Entrepreneur

Agri solutions

Agri Output

Harvest & Market Access

Solution For Institutional-Buyers

Agri solutions

Be Social With Us:
LinkedIn
Twitter
Facebook