Beej se bajar tak
 खोजें
 / 
 / 
भिंडी की खेती में रखें इन बातों का ध्यान

भिंडी की खेती में रखें इन बातों का ध्यान

लेखक - Surendra Kumar Chaudhari | 17/4/2020

भिंडी लोकप्रिय सब्जियों में से एक है। मध्य प्रदेश के लगभग सभी जिलों में भिंडी की खेती की जाती है। भारत के अलावा नाइजीरिया , पाकिस्तान, बेल्जियम, मिस्र आदि कई देशों में इसकी खेती होती है। भिंडी की खेती में इन बातों का ध्यान रख कर आप इसके पैदावार को बेहतर बना सकते हैं।

  • इसकी खेती के लिए गर्म और नमी वाला वातावरण सबसे अच्छा माना जाता है।

  • मिट्टी का पीएच स्तर 6.5 से 7.5 के बीच होना चाहिए।

  • खेतों को 2 से 3 बार जुताई कर के तैयार करना अच्छा होता है।

  • फरवरी - मार्च या जून - जुलाई महीने में बुआई करना उचित रहता है।

  • पौधों के बीच 15 से 20 सेंटीमीटर की दूरी रखनी चाहिए। वहीं क्यारियों के बीच लगभग 25 से 30 सेंटीमीटर की दूरी रखनी चाहिए।

  • फसल की पैदावार बढ़ाने के लिए प्रति हेक्टेयर जमीन के हिसाब से लगभग 15 से 20 टन गोबर की खाद का छिड़काव करना चाहिए।

  • बरसात के मौसम में बारिश होने के कारण सिंचाई की जरुरत नहीं होती है।

  • मार्च के महीने में हर 10 से 12 दिन के अंतराल पर सिंचाई करनी चाहिए। अप्रैल में हर 7 से 8 दिन पर सिंचाई करना जरूरी है। वहीं मई - जून के महीने के में गर्मी अधिक होने के कारण 4 से 5 दिन के अंतराल पर पौधों की सिंचाई करना आवश्यक है।

26 लाइक और 4 कमेंट
यह भी पढ़ें -
भिन्डी:दहिया रोग/ मिलीबग
भिन्डी:दहिया रोग/ मिलीबग

कृषि विशेषज्ञ से मुफ़्त सलाह के लिए हमें कॉल करें

farmer-advisory

COPYRIGHT © DeHaat 2022

Privacy Policy

Terms & Condition

Contact Us

Know Your Soil

Soil Testing & Health Card

Health & Growth

Yield Forecast

Farm Intelligence

AI, ML & Analytics

Solution For Farmers

Agri solutions

Agri Input

Seed, Nutrition, Protection

Advisory

Helpline and Support

Agri Financing

Credit & Insurance

Solution For Micro-Entrepreneur

Agri solutions

Agri Output

Harvest & Market Access

Solution For Institutional-Buyers

Agri solutions

Be Social With Us:
LinkedIn
Twitter
Facebook