Beej se bajar tak
 खोजें
Shivu

Shivu

8 June 2021
अरंडी की उन्नत खेती अरंडी के लिए जलवायु सूखे और गरम ऐसे क्षेत्रों में इसकी फसल अच्छी होती है जहां अच्छी तरह से वितरित 500-750 मि.मी.वर्षा हो। फसल1200से 2100 मी. के अक्षांष पर भी ली जा सकती है। पूरी फसल के दौरान कुछ अधिक तापमान (200-260सें.) और कम आर्द्रता की आवष्यकता होती है। मिट्टी अच्छी जल निकासी वाली लगभग सभी तरह की मिट्टी में अरंड की खेती होती है। किस्में और संकर 47-1(ज्वाला), ज्योती, क्र्रान्ती, किरण, हरिता, जीसी 2, टीएमवी-6, किस्में तथा डीसीएच-519, डीसीएच-177, डीसीएच-32, जीसीएच-4, जीसीएच-5, जीसीएच-6, जीसीएच-7, आरएचसी-1, पीसीएच-1, टीएमवीसीएच-1, संकर लें। फसल पद्धति अरंड की एकल फसल या मिश्रित फसल ली जा सकती है। अन्तःफसल पद्धतियाँ अरंड के साथ अरहर (1:1), लोबिया (1:2), उड़द (1:2), मूंग (1:2), ग्वार की फली (1:1), मूँगफली (1:5-7), हल्दी/अदरक (1:5), सोयाबीन (4:1), कुलथी (1:6-8) कतारों में बताए गए अनुपात में लें। फसल क्रम /फसल चक्र अरंड-मूँगफली, अरंड-सूरजमुखी, अरंड-बाजरा, अरंड-रागी, अरंड-अरहर, अरंड-ज्वार, बाजरा-अरंड, ज्वार-अरंड, अरंड-मॅूंग, अरंड-तिल, अरंड-सूरजमुखी, सरसों-अरंड, अरंड-बाजरा-लोबिया। जुताई मानसून के पहले आने वाली वर्षा के तुरन्त बाद हल चलायें और नुकीले पाटे से 2-3 बार पाटा फेरें। बुआई का समय- दक्षिण पष्चिम मानसून की वर्षा के तुरन्त बाद बुआई करें । रबी की बुआई सितम्बर-अक्टूबर और गरमी की फसल की बुआई जनवरी में करें। बीजों की गुणवत्ता प्राधिकृत एजेंसी से अच्छे संकर /किस्मों के बीज खरीदें। इनको 4-5 वर्षो तक काम में लाया जा सकता है। बीज दर और दूरी वर्षा काल में 90ग60 से.मी. और सिंचित फसल के लिए 120ग60 सेमी की दूरी रखें। वर्षाकाल में खरीफ में बुआई में देरी हो, तब दूरी कम रखें। बीजों के आकार के आधार पर 10-15 कि.ग्रा./है. बीज दर पर्याप्त है। बीज उपचार बीज का उपचार थीरम या कैप्टन से 3 ग्राम/कि.ग्रा. या कार्बेन्डेलियम 2 ग्राम/कि.ग्रा. बीज की दर से करें और ट्राइकोडरमा विरिडे से 10 ग्राम/कि.ग्रा. बीज की दर से करें और 2.5 कि.ग्रा. की मात्रा 125 कि.ग्रा. खाद/है. की दर से मिट्टी में मिलाएं। बुआई की विधियाँ और साधन साधरणतः देषी हल चलाने के बाद अरंड की बुआई करें। उपलब्ध होने पर फर्टीड्रिल, पोरा टचूब, फैस्को हल और एकल कतार बीज ड्रिल से उचित नमी के स्थान पर बीज रखें। बुआई से पहले 24-28 घण्टे तक बीजों को भिगो कर रखें। लवणीय मिट्टी हो तो बुआई से पहले बीजों को 3 घण्टे तक 1 प्रतिषत सोडियम क्लोराइड में भिगोयें। खाद एवं उर्वरक 10-12 टन खाद/है. मिट्टी में मिलाए। अरंड के लिए सुझाए गए उर्वरक (कि.ग्रा./है.) नाइट्रोजन फास्फोरस पोटाष इस तरह है- वर्षाकाल में 60-30-0, एवं सिंचित अवस्था में 120-30-30। सिंचाई जब अधिक समय तक सूखा हो तब फसल वृद्धि की अवस्था में पहले क्रम के स्पाइकों के विकास या दूसरे क्रम के स्पाइकों के निकलने/विकास के समय एक संरक्षी सिंचाई करें जिससे उपज अच्छी होती है। बूँद -बूँद सिंचाई देने से 80 प्रतिषत तक पानी को भाप बन कर उड़ने से रोका जा सकता है। खरपतवार नियंत्रण और निंदाई-गुड़ाई वर्षा के क्षेत्रों में बैलों से चलने वाले ब्लेड हैरो द्वारा 2-3 बार निराई-गुड़ाई, बुआई के 25-30 दिन के बाद से ही की जानी चाहिए। इसके अलावा हाथ से भी खरपतवार साफ करें। सिलोषिया अर्जेन्टिया नाम द्विबीजपत्रीय खरपतवार सितम्बर से जनवरी तक बड़ी मात्रा में दिखाई देते हैं इसे फूल आने से पहले हाथ से जड़ से उखाड़ दें। सिंचित फसल में फ्लूक्लोरेलिन या ट्राईफ्लोरेलिन का एक कि.ग्र.स.अ./है. अंकुरण के बाद या अंकुरण से पहले एलाक्लोर 1.25 कि.ग्रा.स.अ./है. मिट्टी में मिलाएं। मुख्य रोग और उनका प्रबंध फ्युजेरियम उखटा- बीजपत्र की अवस्था में पौधे धीरे-धीरे पीले होकर रोगी दिखाई देने लगते हैं। ऊपरी पत्तियाँ और शाखाएँ मुड़ कर मुरझा जाती है। सहनशील और प्रतिरोधी किस्में जैसे डीसीएस-9, 48-1(ज्वाला), हरिता, जीसीएच-4, जीसीएच-5, डीसीएच-5, डीसीएख्-177 की बुआई करें। कार्बेंन्डजियम 2 ग्रा./कि.ग्रा. बीज की दर से या (कार्बेन्डेजियम 1 ग्रा./ली. में 12 घंटे के लिए भिगा कर)/ टी.विरिडे 10 ग्रा./कि.ग्रा. से बीजों का उपचार और 2.5 कि.ग्रा./है. 12.5 कि.ग्रा. खाद के साथ मिट्टी में मिलाएं। लगातार खेती न करें। बाजरा/रागी या अनाज के साथ फसल चक्र लें। जड़ो का गलना/काला विगलन पौधों में पानी की कमी दिखाई देती है । ऊपरी जड़ें सूखी गहरे दिखाई देने लगती है। और जड़ की छाल निकलने लगती है। फसलों के अवषेषों को जला कर नष्ट कर दें। अनाज की फसलों के साथ फसल चक्र लें। प्रतिरोधी किस्में जैसे ज्वाला (48-1)¬ और जीसीएच-6 की खेती करें। टी.विरिडे 4 ग्रा./कि.ग्रा. बीज या थिरम/कैप्टन से 3 ग्रा./कि.ग्रा. बीज की दर से बीजों का उपचार करें। अल्टेरनेरिया अंगमारी बीजपत्र की पत्तियों पर हल्के भूरे गोल धब्बे दिखाई देते हैं और परिपक्व पत्तियों पर सघन छल्लों के साथ नियमित धब्बे होते है। बाद में यह धब्बे मिलने से अंगमारी होती है और पत्तियाँ झड़ जाती है। रोगाणुओं के सतह पर जमा होने से अपरिपक्व कैप्सूल भूरे से काले होकर गिर जाते है। परिपक्व कैप्सूल पर काली कवकीय वृद्धि होता है।थिरम/कैप्टन से 2-3 ग्रात्र/कि.ग्रा. बीज की दर से बीजों का उपचार करें। फसल वृद्धि के 90 दिनों से आरंभ कर आवष्यकता के अनुसार 2-3 बार 15 दिनों के अंतराल से मैन्कोजेब 2.5 ग्रा./ली. या कॉपर ऑक्सीक्लोराईड 3 ग्रा./ली. का छिड़काव करें। पाउडरी मिल्डयू- पत्तियों की निचली सतह पर सफेद पाउडर की वृद्धि होती है। पत्तियाँ बढ़नें से पहले ही भूरी हो कर झड़ जाती है।बुआई के तीन महीने बाद से आरंभ कर दो बार वेटेबल सल्फर 0.2 प्रतिषत का 15 दिनों के अंतराल से छिड़काव करें। ग्रे रॉट/ग्रे मोल्ड आरंभ में फूलों पर छोटे काले धब्बे दिखाई देते है जिसमें से पीली द्रव रिसता है जिससे कवकीय धागों की वृद्धि होती है जो संक्रमण को फैलाते है। संक्रमित कैप्सूल गल कर गिरते है। अपरिपक्व बीज नरम हो जाते हैं और परिपक्व बीज खोखले, रंगहीन हो जाते हैं। संक्रमित बीजों पर काली कवकीय वृद्धि होती है।सहनषील किस्म ज्वाला (48-1) की खेती करें। कतारों के बीच अधिक दूरी 90ग60 से.मी. रखें। कार्बेन्डेजियम या थियोफनाते मिथाइल का 1 ग्रा./ली. से छिड़काव करें। टी.विरिडे और सूडोमोनास फ्लूरोसेनसस का 3 ग्रा./ली. से छिड़काव करें। संक्रमित स्पाइक/कैप्सूल को निकाल कर नष्ट कर दें। बारिष के बाद 20ग्रा./है. यूरिया फसल पर बिखराने से नए स्पाइक बनते है। क्लैडोस्पोरियम कैप्सूल विगलन कैप्सूल परिपक्व होने के समय आधार पर गहरे हरे घाव विकसित होते हैं। कैप्सूल गल कर मध्यम काले हो जाते हैं। संक्रमण भीतर तक फैलने से बीज भी प्रभावित होते हैं जिन पर काली हरी सूती वृद्धि दिखाई देती है। डायथेन-जेड-78 या मैन्कोजेब का छिड़काव करें। कटाई उचित समय पर, स्पाइकों के पीले होने पर करें । मुख्य कीट और उनका प्रबंध सेमीलूपर- पत्तियाँ झड़ने से हानि होती है। पुराने लारवें तने और षिराएं छोड़ कर पौधे के सभी भाग खा लेते है।फसल वृद्धि की आरंभिक अवस्था में जब 25 प्रतिषत से अधिक पत्तियाँ झड़ने लगें तब ही इल्लियों को हाथ से निकाल कर फेंक दें। तम्बाकू की इल्लियाँ- अधिकतर हानि पत्तियाँ झड़ने से होती है। खराब हुई पत्तियों के साथ छोटे अण्डों और नष्ट हुई पत्तियों के साथ इल्लियों को एकत्र कर नष्ट कर दें।जब 25 प्रतिषत से अधिक पत्तियोंपर नुकसान हो तब क्लोरोपाइरिफोस 20 ई.सी. 2 मि.ली. प्रति लीटर या प्रोफेनोफास 50 ई.सी. 1.5 मि.ली. प्रति लीटर पानी का छिड़काव करें।
like0लाइक
0कमेंट

कृषि विशेषज्ञ से मुफ़्त सलाह के लिए हमें कॉल करें

farmer-advisory

COPYRIGHT © DeHaat 2022

Privacy Policy

Terms & Condition

Contact Us

Know Your Soil

Soil Testing & Health Card

Health & Growth

Yield Forecast

Farm Intelligence

AI, ML & Analytics

Solution For Farmers

Agri solutions

Agri Input

Seed, Nutrition, Protection

Advisory

Helpline and Support

Agri Financing

Credit & Insurance

Solution For Micro-Entrepreneur

Agri solutions

Agri Output

Harvest & Market Access

Solution For Institutional-Buyers

Agri solutions

Be Social With Us:
LinkedIn
Twitter
Facebook